ब्लड मून

ब्लड मून


    ब्लड मून
          1.  21 वी शताब्दी का सबसे लंबा ब्लड मून 27 जुलाई सन 2018 को देखा गया। पूर्ण चंद्र ग्रहण के दौरान 1 घंटा 45 मिनट की अवधि में चंद्रमा का रंग नारंगी था। इस ग्रहण को यूरोप ,अफ्रीका, दक्षिण अफ्रीका, एशिया तथा ऑस्ट्रेलिया में देखा गया। ब्लड मून का कारण मंगल का सूर्य की कक्षा के सर्वाधिक निकट आना है। वर्ष 2003 के बाद पहली बार मंगल पृथ्वी के नजदीक था। चंद्र ग्रहण के दौरान चंद्रमा के रंग पर मंगल से आने वाले प्रकाश का असर था।

     2.  पूर्णिमा के दिन ही पड़ता है चंद्रग्रहण

           चंद्र ग्रहण पूर्णिमा के दिन पड़ता है लेकिन हर पूर्णिमा को चंद्र ग्रहण नहीं पड़ता। इसका कारण है कि पृथ्वी की कक्षा पर चंद्रमा की कक्षा का झुका होना ।यह झुकाव 5 डिग्री है। इसलिए हर बार चंद्रमा पृथ्वी की छाया में प्रवेश नहीं करता। उसके ऊपर या नीचे से निकल जाता है।

Post a Comment

0 Comments